मूविंग एवरेज काम कैसे करते हैं?

DMA Level अर्थ डे मूविंग एवरेज ,३ डेज ,५ डेज ,१० डेज , १५ डेज, २२ डेज , ३० डेज, ५० डेज , १०० डेज , २०० डेज लेवल में से शेयर अगर निचे से २०० डेज को ब्रेक आउट करती हैं तो शेयर अपट्रेंड में जाने की संभावना ज्यादा हैं और २०० डेज लेवल के ऊपर खरीद सकते हैं।और अगर शेयर प्राइस ऊपर से २०० डेज लेवल को ब्रेक डाउन करती है तो शेयर को बेच सकते है , जिसको कहे ते हैं स्ट्रांग ब्रेक आउट बाइंग स्टॉक ,स्ट्रांग ब्रेक डाउन सेल्लिंग स्टॉक। जितने DMA levels आपको दिख रहा हैं इस में से २०० डेज, १०० डेज और ५० डेज को सबसे ज्यादा अहमियत दिए जाता हैं।

Moving Average क्या है – Moving average in Hindi

Moving Average अर्थ  गतिशील औसत / चलती औसत जो पिछले औसत से आगे चलता हैं।

एक बात हमेशा ध्यान में रखे जब भी कोई moving average / चलती औसत के बारे में बोले तो आपको ये समझ न हैं के वो simple moving average / सरल चलती औसत के बारेमे कहे रहे हैं क्यू के simple moving average सरल चलती औसत और moving average (MA )/ चलती औसत एक ही हैं।

moving average एक ऐसा औसत हैं जो हमेशा समय के साथ साथ आगे बढ़ता हैं और अपनी गतिशीलता को बनाये रखते हैं।

moving average का अर्थ  चलती औसत ,पिछले मिनट , पिछले घंटे , पिछले दिन ,पिछले हप्ते ,पिछले मासिक, पिछले साल , इन सभी अवधि के ऊपर निर्भर करके ट्रेडर अपनी अनुसार अपनी स्ट्रेटेजी के मुताबिक moving average रणनीति को उपोयग करते हुए ट्रेड करते हैं। असलियत में moving average रेखा पिछले अवधि को औसत करती हैं और एक नया भाव प्रधान करती हैं। लकिन यह औसत निर्भर करती हैं अवधि के ऊपर , जैसे १५ मिनट की टाइम फ्रेम अगर चुनते हैं तो पिछले १५ मिनट के भाव को औसत करती हैं।

हूबहू डे टाइम फ्रेम में भी पिछले दिन की भाव को औसत करती हैं एक नया भाव आपके सामने रखती हैं और उसी भाव को हम एक स्तर की हिसाब से चलते हैं और उसी स्तर को जब पार करना है तो ट्रेड करते हैं। moving average में से जो लोक प्रिय एवरेज है वो है २०० दिन और १०० दिन की moving एवरेज , अर्थ एक दिवसीय टाइम फ्रेम में यह सबसे ज्यादा उपलब्द हैं खास करके Swing trading और Positional trading में , Intraday trade में भी यह उपलब्द हैं लकिन टाइम फ्रेम की अगर बातें करे तो १ घंटे टाइम फ्रेम सबसे अच्छा हैं क्यू के १ घंटे टाइम फ्रेम में एक शुद्ध Trading signal मिलता हैं।  अबतक हमने जो भी चर्चा किए यह सभी single moving average के ऊपर अर्थात भाव जब किसी चलती औसत को पर करता हैं तो कैसे ट्रेड करना हैं।

Moving Average का दूसरा पहलू Moving Average कही प्रकार के हैं , लकिन मार्किट में सिर्फ २ प्रकार के इस्तेमाल होता हैं , क्यू के ये दोनों सबसे लोकप्रिय हैं और सुरक्षित हैं।  पहला SMA = Simple Moving Average , दूसरा EMA = Exponential Moving Average .

SMA Simple Moving Average पिछले कुछ अवधि candle का समापन भाव के सामान्य परिणाम निकलते हैं , मतलब पिछले सारे candle के closing price को महत्वपूर्ण देते हैं जिस कारण SMA रेखा candle से थोड़ी दूर रहते हैं।

EMA Exponential Moving Average पिछले कुछ अवधि का सामान्य परिणाम के घातांक% निकलते हैं , ट्रेडिंग के बक्त EMA पिछले सभी कैंडल के सामान्य परिणाम को सामान महत्ब नहीं देता हैं। सिर्फ हाल ही का कैंडल को सामान्य परिणाम का महत्व देता हैं। जिस कारन से EMA रेखा हमेशा कैंडल के बहत करीब रहता हैं।

Moving Average अवधि  कम भी हो सकता है और ज्यादा भी हो सकता हैं , मतलब ३० डेज ,२० डेज , १० डेज ,५० डेज कुछ भी। अवधि जितना ज्यादा होगा औसत रेखा कैंडल से दूर रहेगा , और अवधि जितना कम होगा औसत रेखा कैंडल के पास रहेगा

उदाहरण

SMA EMA Result – Result निकलना बहत ही आसान हैं जैसे पिछले ५ पीरियड के closing price को + करके ५ अवधि के माध्यम से विभाजित कर देंगे तो परिणाम निकल जायेगा। अगर देखने की और जानने की प्रयत्न करे तो 5 SMA (1.4 + 1.42 + 1.4250 + 1.4430 1.4500 ) 5 = 1.4300

धीमी गति से चलती औसत या तेज चलती औसत / slower moving average or faster moving average = जिस moving average पर कम अवधि सेट किए जाता हैं वो बहत ही तेज गति fast move से चलती हैं , जैसे १० डेज। और जिस moving average पर ज्यादा अवधि सेट किआ जाता हैं वो धीमी गति से चलती हैं , जैसे ५० डेज , १०० डेज , १५० डेज , २०० डेज।

साप्ताहिक उच्च स्तरीय औसत के अनुसार ट्रेड कैसे करें

Explanation / व्याख्या / clarification / स्पष्टीकरण / definition / परिभाषा

Weekly range weekly low weekly high level Definition / परिभाषा

साप्ताहिक उच्च स्तरीय औसत के अनुसार ट्रेड कैसे करें

साप्ताहिक सीमा औसत स्तर

साप्ताहिक सीमा औसत स्तर मतलब शेयर एक दिन में कितने अंक का गति लेके चलती हैं ,शेयर के एकदिन का सीमा क्या रहता है , सीमा क्या होता हैं ,क्या होने की सम्भाबना हैं , इसी सम्भाबना के ऊपर निर्भर करके एक दिवसीय ट्रेड कर सकते हैं। साप्ताहिक सीमा औसत स्तर प्रति दिन की अंक गति के ऊपर साप्ताहिक औसत स्तर निकलते हैं।

 Weekly range साप्ताहिक सीमा , साप्ताहिक सीमा औसत स्तर को अगर शेयर की बर्तमान राशि पार करती है निचे से अर्थात Crossover करती हैं तो हम साप्ताहिक सीमा औसत स्तर के ऊपर शेयर को खरीद सकते हैं। लकिन जब हम शेयर को साप्ताहिक सीमा औसत स्तर के ऊपर खरीदेंगे तब शेयर की बर्तमान राशि साप्ताहिक सीमा औसत स्तर के १% ऊपर होना जरुरी हैं , क्यू के जब शेयर बर्तमान राशि साप्ताहिक सीमा औसत स्तर के १% ऊपर स्थिर होता हैं तो हम यह अनुमान कर सकते हैं शेयर अपट्रेंड में हैं और ऊपर जाने की कोशिस कर रहे हैं , शेयर की बर्तमान राशि अगर साप्ताहिक सीमा औसत स्तर के नजदीक रहता हैं तो हमें ट्रेड नहीं करना हैं क्यू के यह शेयर कभी भी निचे गिर सकते हैं , इसी लिए हमें साप्ताहिक सीमा औसत स्तर के १% ऊपर ही ट्रेड करना हैं और Stoploss साप्ताहिक सीमा औसत स्तर के निचे लगा सकते हैं।

साप्ताहिक सीमा औसत स्तर साप्ताहिक सीमा औसत स्तर के साथ शेयर की वर्तमान राशि जोड़ के जो राशि निकलेगा उसी के ऊपर ट्रेड करना हैं। साप्ताहिक सीमा औसत स्तर के साथ शेयर की वर्तमान राशि जोड़ के जो राशि निकलेगा उसी के ऊपर ट्रेड करना हैं। उदाहरण शेयर के बर्तमान राशि अगर १०० रूपए हैं तो १०० + साप्ताहिक सीमा औसत स्तर जो भी हैं १० ( १००+१० = ११० होगा ) इसी राशि के ऊपर ट्रेड करना हैं।

ध्यान दें :- साप्ताहिक सीमा औसत स्तर अगर पार करती हैं तो BTST ट्रेडिंग क्या जा सकता हैं। 

साप्ताहिक उच्च स्तरीय औसत

Weekly range साप्ताहिक सीमा , साप्ताहिक उच्च स्तरीय औसत स्तर को अगर शेयर की बर्तमान राशि पार करती है निचे से अर्थात Crossover करती हैं तो हम साप्ताहिक उच्च स्तरीय औसत स्तर के ऊपर शेयर को खरीद सकते हैं। लकिन जब हम शेयर को साप्ताहिक उच्च स्तरीय औसत स्तर के ऊपर खरीदेंगे तब शेयर की बर्तमान राशि साप्ताहिक उच्च स्तरीय औसत स्तर के १% ऊपर होना जरुरी हैं , क्यू के जब शेयर बर्तमान राशि साप्ताहिक उच्च स्तरीय औसत स्तर के १% ऊपर स्थिर होता हैं तो हम यह अनुमान कर सकते हैं शेयर अपट्रेंड में हैं और ऊपर जाने की कोशिस कर रहे हैं , शेयर की बर्तमान राशि अगर साप्ताहिक उच्च स्तरीय औसत स्तर के नजदीक रहता हैं तो हमें ट्रेड नहीं करना हैं क्यू के यह शेयर कभी भी निचे गिर सकते हैं , इसी लिए हमें साप्ताहिक उच्च स्तरीय औसत स्तर के १% ऊपर ही ट्रेड करना हैं और Stoploss साप्ताहिक उच्च स्तरीय औसत स्तर के निचे लगा सकते हैं।

साप्ताहिक उच्च स्तरीय औसत स्तर के अनुसार हम ट्रेड कैसे करेंगे ?

इस मामले में साप्ताहिक सीमा औसत स्तर के अनुसार ट्रेड करना हैं लकिन यहाँ शेयर की साप्ताहिक उच्च स्तरीय औसत स्तर के कुल राशि के ऊपर ट्रेड करना हैं , मतलब साप्ताहिक सीमा औसत स्तर के तरह अंक जोड़ने की जरुरत नहीं। जो राशि हमें मिलरहा है उसी स्तर के ऊपर ट्रेड करना हैं।  जैसे साप्ताहिक उच्च स्तरीय औसत स्तर के कुल राशि १२३४५ हैं।

ध्यान दें :- साप्ताहिक उच्च स्तरीय औसत अगर पार करती हैं तो Swing ट्रेडिंग क्या जा सकता हैं। 

साप्ताहिक निम्न स्तर औसत

Weekly range साप्ताहिक सीमा , साप्ताहिक निम्न स्तर औसत को अगर शेयर की बर्तमान राशि पार करती है निचे से अर्थात Crossdown  करती हैं तो हम साप्ताहिक निम्न स्तर औसत स्तर के निचे शेयर को बेच सकते हैं। लकिन जब हम शेयर को साप्ताहिक निम्न स्तर औसत स्तर के निचे बेचेंगे तब शेयर की बर्तमान राशि साप्ताहिक निम्न स्तर औसत स्तर के १% निचे होना जरुरी हैं , क्यू के जब शेयर बर्तमान राशि साप्ताहिक निम्न स्तर औसत स्तर के १% निचे स्थिर होता हैं तो हम यह अनुमान कर सकते हैं शेयर गिरावट में हैं और निचे जाने की कोशिस कर रहे हैं , शेयर की बर्तमान राशि अगर साप्ताहिक निम्न स्तर औसत स्तर के नजदीक रहता हैं तो हमें ट्रेड नहीं करना हैं क्यू के यह शेयर कभी भी ऊपर जा सकता है, इसी लिए हमें साप्ताहिक निम्न स्तर औसत स्तर के १% निचे ही ट्रेड करना हैं और Stoploss साप्ताहिक निम्न स्तर औसत स्तर के ऊपर लगा सकते हैं।

साप्ताहिक निम्न स्तर औसत स्तर के अनुसार हम ट्रेड कैसे करेंगे ?

इस मामले में साप्ताहिक सीमा औसत स्तर के अनुसार ट्रेड करना हैं लकिन यहाँ शेयर की साप्ताहिक निम्न स्तर औसत स्तर के कुल राशि के ऊपर ट्रेड करना हैं , मतलब साप्ताहिक सीमा औसत स्तर के तरह अंक जोड़ने की जरुरत नहीं। जो राशि हमें मिलरहा है उसी स्तर के निचे ट्रेड करना हैं।  जैसे साप्ताहिक साप्ताहिक निम्न स्तर औसत स्तर के कुल राशि १२३४५ हैं।

                                            

ध्यान दें :- साप्ताहिक निम्न स्तर औसत अगर ऊपर से टूट जाता हैं तो Short Selling ट्रेडिंग क्या जा सकता हैं। 

Leave a Comment

error: Content is protected !!