Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति in Hindi |Intraday Breakout Trading Strategy

Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति (pullback high breakout strategy):- हेलो दोस्तों एक बार फिर आपका स्वागत है आपके अपने ब्लॉग  https://anjantechresearch.com/ पर और आज हम आपके साथ एक बार फिर शेयर मार्केट से जुड़े आर्टिकल को लेकर आयें है जो आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण होना वाला है। जी हां दोस्तों आज हम आपके साथ एक चार्ट पैटर्न के बारे में बात करने जा रहे है और इस Chart Pattern का नाम है Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति in Hindi | Intraday Breakout Trading Strategy के बारे में डिटेल्स में जानने वाले है। बैसे तो अगर दोस्तों आप शेयर मार्केट से जुड़े है और मार्किट में ट्रेडिंग करते है तो आपने इसके बारे में जरूर सुना होगा। लेकिन शायद आपको इसके बारे में अधिक जानकारी नही होगी। बस इसलिए आज हमने इस पोस्ट को तैयार किया है ताकि आप इसका सही इस्तेमाल करके शेयर मार्केट में ट्रेड करके मार्किट से अच्छा मुनाफ़ा कमा सके। चुकी जैसा कि हम सभी जानते है कि शेयर मार्केट में ट्रेड करके पैसे कमाना इतना आसान काम नही होता है। लेकिन हां अगर आपको शेयर मार्केट से जुड़ी चिजो के बारे में अधिक जानकारी होगी तो थोड़ा आसानी से ट्रेड करके अच्छा मुनाफा कमा सकते है। आप मार्किट से अच्छा मुनाफ़ा कमा सके इसलिए हम आपको प्रति दिन अपनी वेबसाइट पर शेयर मार्केट या ट्रेडिंग से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी को आपके साथ शेयर करते रहते है। आज भी हम आपके लिए इस महत्वपूर्ण जानकारी को लेकर आयें है। So दोस्तों अगर आप भी शेयर मार्केट में ट्रेडिंग करते है या फिर करने वाले है और अच्छा मुनाफ़ा कमाना चाहते है तो इस आर्टिकल को अंत तक पड़े ताकि आपको Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति in Hindi | Intraday Breakout Trading Strategy के बारे में उचित जानकारी मिल सके.

Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति in Hindi

दोस्तों सबसे पहले Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति in Hindi | Intraday Breakout Trading Strategy के बारे में विस्तार से जानने से पहले Double Bottom pullback high breakout strategy के कुछ पैरामीटर के बारे में जान लेते है ताकि आपको आगे का प्रोसेस आसानी से समझ आ सके। तो चलिये जानते है-

Double Bottom :- यह पहला पैरामीटर होता है। इसमे हमे Double Bottom 1 को फाइंड आउट।करना है।

पुल बैक हाई ब्रेक आउट:- यह दूसरा पैरामीटर है जिसमे हमे पुल बैक को फाइंड आउट करना है।

Bottom 2:- यह तीसरा पैरामीटर है इसमे हमे Bottom 2 को फाइंड आउट करना है।

Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति in Hindi | Intraday Breakout Trading Strategy

Bottom 1 (one) ko kaise findout kare

Double Bottom चार्ट पैटर्न में खोज के लिए सबसे पहले हमें निचले स्तर पर bottom 1 को फाइंड आउट करना बहुत महत्वपूर्ण होता है। और बैसे भी bottom 1 चार्ट में हमे निचले स्तर पर ही देखने को मिलता है। अगर एक पार्टिकूलर स्टॉक में बहुत अधिक गिरावट देखने को मिलती है। और उस गिरावट के बाद जहां से स्टॉक मूल्य में ऊपरी स्तर में एक बैक बाउंस आता है। तब हम उस निचले स्तर के Bottom 1 कहते है। अगर सरल शब्दों में समझने की कोशिश करे तो स्टॉक की जो गिरावट है या फिर जिस गिरावट के वह उपर जाने की लिए कोशिश करते है या फिर काफी हद तक ऊपर जाते है। तब हम उस निचले स्तर को Bottom 2 कहते है। लेकिन अब हम बात करने जा रहे है Double Bottom फाइंड आउट करने के लिए। हमे Bottom 1 तो मिल गया है और अब हम bottom 2 को फाइंड आउट करना जरूरी है।

Double Bottom
Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति in Hindi | Intraday Breakout Trading Strategy

Bottom 2 (two) ko kaise findout kare

दोस्तों अगर आप bottom 2 की खोज में लगे है तो आपको यहां आपको जो bottom 1 के बाद एक जो हाई मिला है उस हाई के बाद आपको फिर से आपको एक गिरावट देखने को मिलेगा। जैसे उचले स्तर से गिरगर हमे एक निचला स्तर देखने को मिला जहा पर एक बैक बाउंस आया। जानकारी के लिए बता दे की यहां जो बैक बाउंस देखने को मिला है वह उतना ज्यादा नही होना चाहिए। कहने का मतलब bottom 1 से जो बैक बाउंस देखने को मिला है वह एक resistance के तौर पर लेकर चलना है। सो अगर स्टॉक में गिरावट आई 40 पॉइंट और फिर 40 पॉइंट गिरावट के बाद वो अगर निचले स्तर से 5 पॉइंट या 10 पॉइंट जो बैक बाउंस देखने को मिला है और वह एक समय के बाद 40 पॉइंट के बाद एक उछाल देखने को मिलता है। उस 5 पॉइंट के बाद से गिरकर वह पिछले 40 पॉइंट के लेवल को टेस्ट करता है तब हम उसे Buttom 2 कहते है। लेकिन दोस्तों Bottom 2 हम तभी कहेंगें अगर वह पिछले bottom 1 के लेवल में जो हमने 40 पॉइंट के उदाहरण को लेकर चले है। अगर वह उसे तोड़कर नीचे नही गिरते है। और वह 40 पॉइंट के आस पास आकर या फिर 40 पॉइंट को टेस्ट करके बैक बाउंस करते है तब हम उसे निचले स्तर को bottom 2 कहते है। और यही Bottom 1 और bottom 2 से एक नया Bottom जनरेट होता है। जिसे हम Double Bottom कहते है।

Double Bottom

अगर आप Double Bottom के बारे में जानना चाहते है तो नीचे दिए गए स्क्रीन शॉर्ट को देख सकते है।

Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति in Hindi | Intraday Breakout Trading Strategy

Double Bottom Pullback Breakout me kaise trade kare

तो दोस्तों टाइटल के अनुसार जो Strategy है वो है Double Bottom pullback high breakout strategy in Hindi | Intraday Breakout Trading Strategy तो यहां अभी तक हमे जो जानकारी मिली है, Double Bottom में Bottom 1 और Bottom 2 के बारे में की कैसे हम इन्हें फाइंड आउट करेंगे। और इन दोनों के जरिये double bottom कैसे बनता है उसके बारे में हमने जाना है। टाइटल Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति के अनुसार हमे ट्रेड करना है। और पुल बैक हाई को समझना है। जैसे कि हम पहले भी बता चुके है की स्टॉक की जो गिरावट थी उचले स्तर से निचले स्तर तक और निचले स्तर के बाद हमे जो एक बैक बाउंस मिला था जो हमे 5 पॉइंट के बात  किये थे, यह 5 पॉइंट उछलने की बाद ऊपर से सेलर्स प्रेसर के कारण स्टॉक में दोबारा से गिरावट आ गयी। क्योकि निचले स्तर से जो बाइंग शुरू हुई है, या फिर जो डिमांड थी उस डिमांड के कारण जितने वायर्स ने स्टॉक को buy किया था, उन ट्रेड के लिए अच्छा मुनाफ़ा मिल रहा था और इस मुनाफे को अपनी जेब मे लाने के लिए सभी वायर्स अपनी पोजीशन को कट करना शुरू कर दिया। बता दे कि शुरू करने के कारण हमे एक्सेक्यूटे देखने को मिला। जहां से सेलर्स हावी हुए स्टॉक को सेल करने के लिए क्योंकि वहां से अगर सेलर्स सेल करते है तो वह नीचे फिर से उसे ख़रीद सकते है।

लेकिन दोस्तों जहाँ पर 5 पॉइंट जो उछाल था वहाँ पर सेलर हावी होने के कारण वो नीचे स्तर पर गिरा और वो support  बन गया। और अब वो जब नीचे गिरकर पिछले bottom को टेस्ट किया था जो हमने 40 पॉइंट का उदाहरण लिया था। वहाँ से अगर बैंक बाउंस होता है, तो वहां हमने उसका bottom समझ लिया और अब जब पुल बैक हाई ब्रेक आउट है वह अगर Pullback High Breakout Level को अगर ब्रेक आउट करते है तो हम वहाँ से buy कर सकते है। क्योंकि तब निचे से STOCK  में इतना ज्यादा डिमांड आया था और डिमांड आने वाला है। क्यू के निचले स्तर से अगर पुल बैक हाई ब्रेक आउट करते है तो स्टॉक काफी ऊंचाई तक जा सकते है। और इसी रणनीति के अनुसार बाइंग Strategy जनरेट करते है या फिर कहे सकते है कि स्टॉक को खरीदने के लिए बाइंग Strategy लेवल जनरेट करते है। जैसा कि आप चार्ट में देख सकते है की हमे double bottom मिला और पिछला पुल बैक हाई लेवल मिला।

double bottom
Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति in Hindi | Intraday Breakout Trading Strategy

अगर हम स्टॉक खरीदते है तो हमे अच्छा मुनाफा मिल रहा था।

DOUBLE BOTTOM DIFFERENT STRATEGY / Trader’s different thinking about double bottom

अब थोड़ा अलग समझने की कोशिश करते है क्योंकि double bottom को लेकर TRADER अलग अलग रणनीति के अनुसार मार्केट में ट्रेड करते है। खासकर double bottom को में कुछ ट्रेडर ब्रेक डाउन करते है तो वहाँ सेल करते है और कुछ ट्रेडर double bottom के इंतजार में रहते है की कब bottom बनेगा और वो भी double bottom  जिसके अनुसार वो उस double bottom पर बाइंग पोजीशन क्रेट करते है। double bottom स्टॉक के नीचे बुएरस STOP -LOSS अप्लाई करते है क्योंकि अगर वह double bottom को तोड़ते है तो स्टॉक काफी नीचे गिर सकते है और अगर double  bottom को ब्रेक डाउन नही करते है तो वहां स्टॉक ऊपर आ सकता है लेकिन हमने double bottom के ऊपर ना बाइंग किया है ना सेल किया है मतलब बाकी ट्रेडर जिस तरीके से ट्रेड करते है या जिस रणनीति के अनुसार ट्रेड करते है उसको हमने इग्नोर करके एक नए रणनीति के साथ ट्रेड किया। जिस कहते है double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति।

What is double bottom pullback high breakout /double bottom pullback high breakout strategy में कैसे ट्रेड करे 

Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति के अनुसार जब स्टॉक पहले bottom 1 क्रेट किया था। वहां से 5 पॉइंट की उछाल फिर से नीचे गिरा 5 पॉइंट मतलब की सेम लेवल को टेस्ट किया और फिर उसके बाद 5 पॉइंट को ब्रेक आउट किया तो मतलब की जो ट्रेडर  Double Bottom के ऊपर buy करते है  तो buy करने वाले ट्रेडर को 5 पॉइंट एडवांस में मिलता है। लेकिन यह थोड़ा सा रिसकी रहता है क्योकि यहां STOP -LOSS होने के RATIO ज्यादा थे। और अगर हम पुल बैक हाई ब्रेक के ऊपर buy करते है तो यहां STOP -LOSS होने के RATIO थोड़े कम होते है। क्योंकि स्टॉक में डिमांड आने के कारण ही 2 बार 5 point level को break out किया। कहने का मतलब यह है कि जो example 40 point का गिरावट था और 40 पॉइंट की गिरावट के बाद फिर से 5 पॉइंट का हाई हुआ था और फिर से 5 पॉइंट के बाद एक बार फिर से ऊपर से 5 point तक गिरा , दुबारा डिमांड के कारण ही गिरावट स्टॉक में निचे से 5 point की level को अर्थात PREVIOUS  HIGH BREAK LEVEL को ब्रेकआउट किया। तो दोस्तों जब भी उचले स्तर के स्टॉक में गिरावट के बाद निचले स्तर में double bottom देखने को मिलता हैं और बॉटम से pullback high breakout level को ब्रेकआउट करते  है तो हम buy कर सकते है। और यदि सेल करते है तो गिरावट स्टॉक में पिछले लेवल को दो बार ब्रेक डाउन करते है तो आप आसानी से सेल कर सकते है। लेकिन हम यहाँ बात कर रहे थे Double Bottom pullback high breakout strategy की।

निचे दिया गया चित्र से आसानी से समझ सकते है। You can easily understand from the picture given below.

Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति in Hindi | Intraday Breakout Trading Strategy

तो दोस्तों ये थी हमारी आज की पोस्ट जिसमे हमने Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति in Hindi की सही जानकारी के बारे जाना। इस लेख में हमने Double Bottom है Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति होते है और यह कितने प्रकार के होते है इन सब के बारे हिंदी में जाना। आशा करता हूँ की आपको आज के इस लेख में दी गयी Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति के बारे जानकारी समझ आ गयी होगी और आपके लिए उपयोगी साबित हुई होगी। यदि फिर भी आपको इस लेख में कुछ समझ नहीं आया हो या फिर Double Bottom पुल बैक हाई ब्रेक आउट रणनीति से जुड़ा कोई सवाल आपके मन में है तो आप हमे नीचे कमेंट करके पूछ सकते है। हमारी टीम बहुत जल्द आपसे जुड़कर आपकी पूरी सहायता करेगी। इसी तरह की शेयर मार्किट से जुडी जानकारी पाने के लिए हमारी साइट से जुड़े रहे हमारी कोशिश रहेगी की आपको हर दिन SHARE MARKET बारे में कुछ ना कुछ नया शेयर करते रहे धन्यवाद

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top